…extreme self-abnegation is the centre of all morality. And what is perfect self-abnegation? It means the abnegation of this apparent self, the abnegation of all selfishness. This idea of “me and mine”—Ahamkara and Mamata—is the result of past superstition, and the more this present self passes away, the more the real Self becomes manifest. This is true self-abnegation, the centre, the basis, the gist of all moral teaching… (Complete Works of Swami Vivekananda, v. 2 pg. 83)

…सम्पूर्ण आत्मत्याग ही सारी नैतिकता का केन्द्र है। किन्तु पूर्ण आत्मत्याग क्या है? सम्पूर्ण आत्मत्याग हो जाने पर क्या शेष रहता है? आत्मत्याग का अर्थ है, इस मिथ्या आत्मा या ङ्गव्यक्तित्वफ का त्याग, सब प्रकार की स्वार्थपरता का त्याग। यह अहंकार और ममता पूर्व कुसंस्कारों के फल हैं और जितना ही इस ङ्गव्यक्तित्वफ का त्याग होता जाता है, उतनी ही आत्मा अपने नित्य स्वरूप में, अपनी पूर्ण महिमा में अभिव्यक्त होती है। यही वास्तविक आत्मत्याग है और यही समस्त नैतिक शिक्षा का आधार है, केन्द्र है।

…અહંકારનો સંપૂર્ણ ત્યાગ બધી નીતિમત્તાનું મૂળ છે. સંપૂર્ણ સ્વાર્થત્યાગ એટલે શું ? એનો અર્થ, આ ભાસમાન વ્યક્તિત્વનો ત્યાગ, બધી સ્વાર્થભાવનાનો ત્યાગ. ‘હું’ અને ‘મારું અહંકાર અને મમતા – એ પુરાણા વહેમોનાં પરિણામ છે; અને જેમ જેમ આ અત્યારનું ‘હું’પણું ચાલ્યું જાય, તેમ તેમ સાચો આત્મા વધારે ને વધારે પ્રગટ થાય છે. આ જ સાચો અહંકારનો ત્યાગ છે, સર્વ નૈતિક ઉપદેશોનું મૂળ, આધાર, સારતત્ત્વ છે… (સ્વામી વિવેકાનંદ ગ્રંથમાળા ભાગ ૨ પૃ. ૩૦૯)

সম্পূর্ণ আত্মত্যাগই সকল নীতির ভিত্তি। কিন্তু পূর্ণ অত্মত্যাগ কি? এই আত্মত্যাগ হইলে কি অবশিষ্ট থাকে? আত্মত্যাগ অর্থে এই আপাতপ্রতীয়মান ‘অহং-এর ত্যাগ, সর্বপ্রকার স্বার্থপরতা-বর্জন। এই অহঙ্কার ও মমতা পূর্ব কুসংস্কারের ফলস্বরূপ, আর যতই এই ‘অহং’ ত্যাগ হইতে থাকে, ততই আত্মা নিত্যস্বরূপে নিজ পূর্ণ মহিমায় প্রকাশিত হন৷ ইহাই প্রকৃত আত্মত্যাগ, ইহাই, সমুদয় নীতিশিক্ষার ভিত্তিস্বরূপ – কেন্দ্রস্বরূপ।

Total Views: 84
Bookmark(0)